कलयुग के रावण का अंत करने राम को आना ही होगा….

Please follow and like us:
Facebook
Facebook
Instagram
Google+
https://shaiiljoharri.in/2018/11/%e0%a4%95%e0%a4%b2%e0%a4%af%e0%a5%81%e0%a4%97-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%b5%e0%a4%a3-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%85%e0%a4%82%e0%a4%a4-%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%b0/
LinkedIn
YouTube
Follow by Email
RSS

गीत – राम को आना पड़ता है…
************************
जब जब इतिहास को वर्तमान, दोहराकर कठिन सवाल करे,
जब जब विध्वंस की लपटों में जल, यौवन हाहाकार करे,
जब जब भी सरलता का मतलब, कमज़ोरी ही समझा जाए,
और अनाचार हो निडर खड़ा, बेशर्मी से व्यभिचार करे,
तब सौम्य, शील, सज्जनता को, हथियार उठाना पड़ता है,
जब जब रावण दस शीश धरे, तब राम को आना पड़ता है ।।

मृगतृष्णा में जग लीन हुआ, और अगणित पाप विलीन हुआ,
आंखों पर भ्रम का जाल पड़ा, मन मानवता से हीन हुआ,
चहु ओर सिर्फ आडंबर है, छल और प्रपंच का मंज़र है,
लालच, धोखा और स्वार्थ सिद्ध, मुँह राम बगल में खंजर है,
मन का ये स्वर्ण हिरण रूपी, हर भरम मिटाना पड़ता है,
जब जब रावण दस शीश धरे, तब राम को आना पड़ता है ।।

वनवासी हो सब त्याग दिया, निज पिता वचन साकार किया,
मित्रता निभाने की ख़ातिर, दागी होना स्वीकार किया,
लक्ष्मण को संकट में देखा, नयना झर झर निर्झर रोए,
रावण को भी कुछ वचन दिए, शत्रु से भी संस्कार लिया,
बनना है राम के जैसा तो, हर वचन निभाना पड़ता है,
जब जब रावण दस शीश धरे, तब राम को आना पड़ता है ।।

भक्ति श्रद्धा का परिचायक, इसके बिन कोई विहान नहीं, (विहान -सवेरा)
है राम नाम से बड़ा यहाँ, कोई पूजा कोई विधान नहीं,
संस्कृति परिष्कृत हो जिससे, उन संस्कारों का ज्ञान नहीं,
सब राम सदृश अभिनय करते, पर राम होना आसान नहीं,
कर्तव्य-वेदी चढ़कर खुद को, सोने से तपाना पड़ता है,
जब जब रावण दस शीश धरे, तब राम को आना पड़ता है ।।

महलों में जन्मे राजपुत्र, कुटिया में धूनी रमाते थे,
लगने थे छप्पन भोग जिन्हें, वो कंदमूल फल खाते थे,
बचपन गुरु नियम अधीन किया, यौवन बीता निर्जन वन में,
भगवन ने भी हर कष्ट सहा, जो लिखा है मानव जीवन में,
हर कष्ट उठाकर भी लब पर, मुस्कान सजाना पड़ता है,
जब जब रावण दस शीश धरे, तब राम को आना पड़ता है ।।

शैल जौहरी ‘साहिल’

 

Please follow and like us:
Facebook
Facebook
Instagram
Google+
https://shaiiljoharri.in/2018/11/%e0%a4%95%e0%a4%b2%e0%a4%af%e0%a5%81%e0%a4%97-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%b5%e0%a4%a3-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%85%e0%a4%82%e0%a4%a4-%e0%a4%95%e0%a4%b0%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%b0/
LinkedIn
YouTube
Follow by Email
RSS

4 thoughts on “कलयुग के रावण का अंत करने राम को आना ही होगा….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy this blog? Please spread the word :)

error: Content is protected !!