आज फिर तुम हमें याद आने लगे…

गीत –  आज फिर बारिशों की है महफ़िल सजी, आज फिर तुम हमें याद आने लगे,…

और वो शाम यूँ ही गुज़रती रही…

उदासियों की ज़मीं पर,तन्हाइयों की गोद में,मेरे दिल की धड़कन,किलकारियां भरती रही,फिर एक नई सुबह के…

Enjoy this blog? Please spread the word :)

error: Content is protected !!